Angar Moti Mor Dai Lyrics – Dukalu Yadav - CGLYRICS

Latest

शुक्रवार, 9 अगस्त 2019

Angar Moti Mor Dai Lyrics – Dukalu Yadav

Angar Moti Mor Dai Lyrics – Dukalu Yadav

अंगार मोती मोर दाई गीत छत्तीसगढ़ी एल्बम से गीत अंगार मोती माता की महिमा पर आधारित है जो धमतरी में गंगरेल पर स्थित है। इस गाने को डुकलू यादव ने गाया है।
Angar Moti Mor Dai Lyrics – Dukalu Yadav

Song: Angar Moti Mor Dai
Singer: Dukalu Yadav

Angar Moti Mor Dai Lyrics – Dukalu Yadav

जय हो माँ, जय हो माँ, जय हो माँ
जय हो माँ, जय हो माँ, जय हो माँअंगार मोती मोर दाई वो
तोर अंगना मा बरत हे ज्योति
तोर अंगना मा बरत हे ज्योतिअंगार मोती मोर दाई वो
तोर अंगना मा बरत हे ज्योति
तोर अंगना मा बरत हे ज्योतिगंगा सही गंगरेल मोहाय
गंगा सही गंगरेल मोहाय
चारो मुड़ा चारो कोती वो दाई ..
चारो मुड़ा चारो कोती
अंगार मोती मोर दाई वो
तोर अंगना मा बरत हे ज्योति
तोर अंगना मा बरत हे ज्योति
ना तोला घाम लागे ना तोला पानी
अजब हवै माता तोर कहानी वो
अजब हवै माता तोर कहानी वो
बैठें हवस गंगरेल के तीर मा
आदी शक्ति माता अम्बे भवानी वो
आदी शक्ति माता अम्बे भवानी वो
तैं करथस सबके सहाई वो ..
तैं करथस सबके सहाई वो ..
तोर अंगना मा बरसत हे मोती वो दाई ..
तोर अंगना मा बरसत हे मोती वो दाई ..
अंगार मोती मोर दाई वो
तोर अंगना मा बरत हे ज्योति
तोर अंगना मा बरत हे ज्योति
आगी अंगरा कस बरत रइथस
तैं हा वो माता दिन रात वो
तैं हा वो माता दिन रात वो
मेला भराते जात ला लगके
चैत्र महीना अउ नवरात्री वो
चैत्र महीना अउ नवरात्री वो
तोर बहिनी हे बिलाई माई वो
तोर बहिनी हे बिलाई माई वो
जे हर घुमत रहिथे एति ओती वो दाई
घुमत रहिथे एति ओती
अंगार मोती मोर दाई वो
तोर अंगना मा बरत हे ज्योति
तोर अंगना मा बरत हे ज्योति
तिहि जरे अउ तिहि बुताये
कोनो हा माता समझ नई पाए वो
नर अउ नारी आरती थारी
लेके चरन मा तोर आये वो
लेके चरन मा तोर आये वो
मैं चघावव चुरी चगलाई वो
मैं चघावव चुरी चगलाई वो
तोर घूमर मगे मृगसेति वो दाई
घूमर मगे मृगसेति
अंगार मोती मोर दाई वो
तोर अंगना मा बरत हे ज्योति
तोर अंगना मा बरत हे ज्योति

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें